Sri Vidya - Sri Chakra

Khadgamala Stotram is a hymn to the Divine Mother. Khadga means Sword, Mala means Garland, Stotram means a hymn or song of praise. This takes us mentally through the Sri Chakra; i.e. the mystical geometric representation of the Supreme Goddess.
SHAKTI (Energy) is fully animated by SHIVA (Consciousness). This sloka is an alternative, short-form recitation. While reciting each name, yoginis of Sri Chakra should spring up in our imagination.

श्री देवी प्रार्थन ஶ்ரீ தேவீ ப்ரார்தன
ह्रींकारासनगर्भितानलशिखां सौः क्लीं कलां बिभ्रतीं
सौवर्णांबरधारिणीं वरसुधाधौतां त्रिनेत्रोज्ज्वलाम् ।
वंदे पुस्तकपाशमंकुशधरां स्रग्भूषितामुज्ज्वलां
त्वां गौरीं त्रिपुरां परात्परकलां श्रीचक्रसंचारिणीम् ॥
ஹ்ரீம்காரா ஸனகர்பிதான லஶிகாம் ஸௌஃ க்லீம் களாம் பிப்ரதீம்
ஸௌவர்ணாம்பரதாரிணீம் வரஸுதாதௌதாம் த்ரினேத்ரோஜ்ஜ்வலாம் |
வம்தே புஸ்தகபாஶமம்குஶதராம் ஸ்ரக்பூஷிதாமுஜ்ஜ்வலாம்
த்வாம் கௌரீம் த்ரிபுராம் பராத்பரகளாம் ஶ்ரீசக்ரஸம்சாரிணீம் ||

अस्य श्री शुद्धशक्तिमालामहामंत्रस्य, उपस्थेंद्रियाधिष्ठायी वरुणादित्य ऋषयः देवी गायत्री छंदः सात्विक ककारभट्टारकपीठस्थित कामेश्वरांकनिलया महाकामेश्वरी श्री ललिता भट्टारिका देवता, ऐं बीजं क्लीं शक्तिः, सौः कीलकं मम खड्गसिद्ध्यर्थे सर्वाभीष्टसिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः, मूलमंत्रेण षडंगन्यासं कुर्यात् ।
அஸ்ய ஶ்ரீ ஶுத்தஶக்திமாலாமஹாமம்த்ரஸ்ய, உபஸ்தேம்த்ரியாதிஷ்டாயீ வருணாதித்ய றுஷயஃ தேவீ காயத்ரீ சம்தஃ ஸாத்விக ககாரபட்டாரகபீடஸ்தித காமேஶ்வராம்கனிலயா மஹாகாமேஶ்வரீ ஶ்ரீ லலிதா பட்டாரிகா தேவதா, ஐம் பீஜம் க்லீம் ஶக்திஃ, ஸௌஃ கீலகம் மம கட்கஸித்த்யர்தே ஸர்வாபீஷ்டஸித்த்யர்தே ஜபே வினியோகஃ, மூலமம்த்ரேண ஷடம்கன்யாஸம் குர்யாத் |

ध्यानम् த்யானம்
आरक्ताभांत्रिणेत्रामरुणिमवसनां रत्नताटंकरम्याम्
हस्तांभोजैस्सपाशांकुशमदनधनुस्सायकैर्विस्फुरंतीम् ।
आपीनोत्तुंगवक्षोरुहकलशलुठत्तारहारोज्ज्वलांगीं
ध्यायेदंभोरुहस्थामरुणिमवसनामीश्वरीमीश्वराणाम् ॥
लमित्यादिपंच पूजाम् कुर्यात्, यथाशक्ति मूलमंत्रम् जपेत् ।
ஆரக்தாபாம்த்ரிணேத்ராமருணிமவஸனாம் ரத்னதாடம்கரம்யாம்
ஹஸ்தாம்போஜைஸ்ஸபாஶாம்குஶமதனதனுஸ்ஸாயகைர்விஸ்புரம்தீம் |
ஆபீனோத்தும்கவக்ஷோருஹகலஶலுடத்தாரஹாரோஜ்ஜ்வலாம்கீம்
த்யாயேதம்போருஹஸ்தாமருணிமவஸனாமீஶ்வரீமீஶ்வராணாம் ||
லமித்யாதிபம்ச பூஜாம் குர்யாத், யதாஶக்தி மூலமம்த்ரம் ஜபேத் |
I meditate the goddess with lotus like hands , who is red in colour, Who is Goddess of Lord Shiva, drenched in blood, three eyeed, the colour of rising sun, pretty with gem studded anklets and holding The lotus, the rope , the goad and has the bow and arrows of god of love. Shines in the garland of gems which are like stars, worn over her ample and elevated breasts.

लं – पृथिवीतत्त्वात्मिकायै श्री ललितात्रिपुरसुंदरी पराभट्टारिकायै गंधं परिकल्पयामि – नमः
हं – आकाशतत्त्वात्मिकायै श्री ललितात्रिपुरसुंदरी पराभट्टारिकायै पुष्पं परिकल्पयामि – नमः
यं – वायुतत्त्वात्मिकायै श्री ललितात्रिपुरसुंदरी पराभट्टारिकायै धूपं परिकल्पयामि – नमः
रं – तेजस्तत्त्वात्मिकायै श्री ललितात्रिपुरसुंदरी पराभट्टारिकायै दीपं परिकल्पयामि – नमः
वं – अमृततत्त्वात्मिकायै श्री ललितात्रिपुरसुंदरी पराभट्टारिकायै अमृतनैवेद्यं परिकल्पयामि – नमः
सं – सर्वतत्त्वात्मिकायै श्री ललितात्रिपुरसुंदरी पराभट्टारिकायै तांबूलादिसर्वोपचारान् परिकल्पयामि – नमः
லம் – ப்றுதிவீதத்த்வாத்மிகாயை ஶ்ரீ லலிதாத்ரிபுரஸும்தரீ பராபட்டாரிகாயை கம்தம் பரிகல்பயாமி – நம:
ஹம் – ஆகாஶதத்த்வாத்மிகாயை ஶ்ரீ லலிதாத்ரிபுரஸும்தரீ பராபட்டாரிகாயை புஷ்பம் பரிகல்பயாமி – நம:
யம் – வாயுதத்த்வாத்மிகாயை ஶ்ரீ லலிதாத்ரிபுரஸும்தரீ பராபட்டாரிகாயை தூபம் பரிகல்பயாமி – நம:
ரம் – தேஜஸ்தத்த்வாத்மிகாயை ஶ்ரீ லலிதாத்ரிபுரஸும்தரீ பராபட்டாரிகாயை தீபம் பரிகல்பயாமி – நம:
வம் – அம்றுததத்த்வாத்மிகாயை ஶ்ரீ லலிதாத்ரிபுரஸும்தரீ பராபட்டாரிகாயை அம்றுதனைவேத்யம் பரிகல்பயாமி – நம:
ஸம் – ஸர்வதத்த்வாத்மிகாயை ஶ்ரீ லலிதாத்ரிபுரஸும்தரீ பராபட்டாரிகாயை தாம்பூலாதிஸர்வோபசாரான் பரிகல்பயாமி – நம:

श्री देवी संबोधनं ஶ்ரீ தேவீ ஸம்போதனம்
ॐ ऐं ह्रीं श्रीम् ऐं क्लीं सौः ॐ नमस्त्रिपुरसुंदरी, न्यासांगदेवताः (६)
ஓம் ஐம் ஹ்ரீம் ஶ்ரீம் ஐம் க்லீம் ஸௌஃ ஓம் நமஸ்த்ரிபுரஸும்தரீ, ன்யாஸாம்கதேவதாஃ
Salutations to Tripura Sundari, may you grant us benediction of knowledge, power and grace. Om Namah Tripura Sundari

हृदयदेवी, शिरोदेवी, शिखादेवी, कवचदेवी, नेत्रदेवी, अस्त्रदेवी, तिथिनित्यादेवताः
ஹ்றுதயதேவீ, ஶிரோதேவீ, ஶிகாதேவீ, கவசதேவீ, நேத்ரதேவீ, அஸ்த்ரதேவீ, திதினித்யாதேவதாஃ
Compassionate heart, who is at the head, with flowing hair, who is the armour to us, graceful look and protective weapons

कामेश्वरी, भगमालिनी, नित्यक्लिन्ने, भेरुंडे, वह्निवासिनी, महावज्रेश्वरी, शिवदूती, त्वरिते, कुलसुंदरी, नित्ये, नीलपताके, विजये, सर्वमंगले, ज्वालामालिनी, चित्रे, महानित्ये, दिव्यौघगुरवः
காமேஶ்வரீ, பகமாலினீ, நித்யக்லின்னே, பேரும்டே, வஹ்னிவாஸினீ, மஹாவஜ்ரேஶ்வரீ, ஶிவதூதீ, த்வரிதே, குலஸும்தரீ, நித்யே, நீலபதாகே, விஜயே, ஸர்வமங்களே, ஜ்வாலாமாலினீ, சித்ரே, மஹானித்யே, திவ்யௌககுரவஃ
Goddess of passion, Garland of Suns, always wet with mercy, has a fearful form, Residing in fire, like a diamond, who sent Shiva as emissary, in a hurry to help, prettiest of her clan, who is perennially forever, who has a blue flag, victorious, completely auspicious, shine like flame, like a picture and who is forever and always great or Eternal Truth

परमेश्वर, परमेश्वरी, मित्रेशमयी, (srishdimayi) उड्डीशमयी, चर्यानाथमयी, लोपामुद्रमयी, अगस्त्यमयी, सिद्धौघगुरवः
பரமேஶ்வர, பரமேஶ்வரீ, மித்ரேஶமயீ, (ஸ் ரீஷ்டீமயீ), உட்டீஶமயீ, சர்யானாதமயீ, லோபாமுத்ரமயீ, அகஸ்த்யமயீ, ஸித்தௌககுரவஃ
Goddess of the divine Lord, Goddess of friendship, (creation), Erect or Lord Subramanya, pervades as moon, Happiness or pervades as right rituals, who pervades as Lopa Mudhra and who pervades as sage Agasthya

कालतापशमयी, धर्माचार्यमयी, मुक्तकेशीश्वरमयी, दीपकलानाथमयी, मानवौघगुरवः
காலதாபஶமயீ, தர்மாசார்யமயீ, முக்தகேஶீஶ்வரமயீ, தீபகலானாதமயீ, மானவௌககுரவஃ
Goddess worshipped by sages, who do penance over ages, the teachers of Dharma, whose hair falls down freely. She is like the flame of a lamp and the musical note

विष्णुदेवमयी, प्रभाकरदेवमयी, तेजोदेवमयी, मनोजदेवमयि, कल्याणदेवमयी, वासुदेवमयी, रत्नदेवमयी, श्रीरामानंदमयी, श्रीचक्र प्रथमावरणदेवताः
விஷ்ணுதேவமயீ, ப்ரபாகரதேவமயீ, தேஜோதேவமயீ, மனோஜதேவமயி, கள்யாணதேவமயீ, வாஸுதேவமயீ, ரத்னதேவமயீ, ஶ்ரீராமானம்தமயீ, ஶ்ரீசக்ர ப்ரதமாவரணதேவதாஃ
Expanded to take up the whole of space, becoming a star called the sun, full of splendorous glitter, desire, ever auspicious, everything grew out of memory, like jewels, enjoyed the Goddess Sri Rama Blissfully (pervades above Gods?)

अणिमासिद्धे, लघिमासिद्धे, गरिमासिद्धे, महिमासिद्धे, ईशित्वसिद्धे, वशित्वसिद्धे, प्राकाम्यसिद्धे, भुक्तिसिद्धे,
அணிமாஸித்தே, லகிமாஸித்தே, கரிமாஸித்தே, மஹிமாஸித்தே, ஈஶித்வஸித்தே, வஶித்வஸித்தே, ப்ராகாம்யஸித்தே, புக்திஸித்தே, இச்சாஸித்தே, ப்ராப்திஸித்தே, ஸர்வகாமஸித்தே,
Goddess who has the power to become invisible, to make body light and fly, body as much heavy as needed, increase or decrease the size of the body, power to control other beings, can subjugate all, can realize all her desires, to consume all that needed, to wish anything, reach any place and make us realize all desires

इच्छासिद्धे, प्राप्तिसिद्धे, सर्वकामसिद्धे, ब्राह्मी, माहेश्वरी, कौमारि, वैष्णवी, वाराही, माहेंद्री, चामुंडे, महालक्ष्मी, सर्वसंक्षोभिणी, सर्वविद्राविणी, सर्वाकर्षिणी, सर्ववशंकरी, सर्वोन्मादिनी, सर्वमहांकुशे, सर्वखेचरी, सर्वबीजे, सर्वयोने, सर्वत्रिखंडे, त्रैलोक्यमोहन चक्रस्वामिनी, प्रकटयोगिनी, श्रीचक्र द्वितीयावरणदेवताः
ப்ராஹ்மீ, மாஹேஶ்வரீ, கௌமாரி, வைஷ்ணவீ, வாராஹீ, மாஹேன்த்ரீ, சாமுன்டே, மஹாலக்ஷ்மீ, ஸர்வஸம்க்ஷோபிணீ, ஸர்வவித்ராவிணீ, ஸர்வாகர்ஷிணீ, ஸர்வ வஶம்கரீ, ஸர்வோன்மாதினீ, ஸர்வமஹாம்குஶே, ஸர்வகேசரீ, ஸர்வபீஜே, ஸர்வயோனே, ஸர்வத்ரிகம்டே, த்ரைலோக்யமோஹன சக்ரஸ்வாமினீ, ப்ரகடயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர த்விதீயாவரணதேவதாஃ
She is the power of Brahma, Shiva, Subramanya, Vishnu, Varaha, Devendra. She killed Chanda and Munda. Mahalakshmi. She who shakes, melts, attracts and kills everything. Makes every one mad. Great goad to all. Travels like all birds. The seed of everything. Who can generate anything. Present in all three parts of the earth, attract all the three worlds, Goddess of Devendra. Undisguised expert on yoga

कामाकर्षिणी, बुद्ध्याकर्षिणी, अहंकाराकर्षिणी, शब्दाकर्षिणी, स्पर्शाकर्षिणी, रूपाकर्षिणी, रसाकर्षिणी, गंधाकर्षिणी, चित्ताकर्षिणी, धैर्याकर्षिणी, स्मृत्याकर्षिणी, नामाकर्षिणी, बीजाकर्षिणी, आत्माकर्षिणी, अमृताकर्षिणी, शरीराकर्षिणी, सर्वाशापरिपूरक चक्रस्वामिनी, गुप्तयोगिनी, श्रीचक्र तृतीयावरणदेवताः
காமாகர்ஷிணீ, புத்த்யாகர்ஷிணீ, அஹம்காராகர்ஷிணீ, ஶப்தாகர்ஷிணீ, ஸ்பர்ஶாகர்ஷிணீ, ரூபாகர்ஷிணீ, ரஸாகர்ஷிணீ, கம்தாகர்ஷிணீ, சித்தாகர்ஷிணீ, தைர்யாகர்ஷிணீ, ஸ்ம்றுத்யாகர்ஷிணீ, நாமாகர்ஷிணீ, பீஜாகர்ஷிணீ, ஆத்மாகர்ஷிணீ, அம்றுதாகர்ஷிணீ, ஶரீராகர்ஷிணீ, ஸர்வாஶாபரிபூரக சக்ரஸ்வாமினீ, குப்தயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர த்றுதீயாவரணதேவதாஃ
Power of passion/lust, intelligence/wisdom, power of pride, good sound, touch, form, taste, smell, mind, valor/bravery, memory, name, chants. Attractive powers of self, soul and body. Wheel who fulfills all desires. Secret practitioner of Yoga

अनंगकुसुमे, अनंगमेखले, अनंगमदने, अनंगमदनातुरे, अनंगरेखे, अनंगवेगिनी, अनंगांकुशे, अनंगमालिनी, सर्वसंक्षोभणचक्रस्वामिनी, गुप्ततरयोगिनी,
அனம்ககுஸுமே, அனம்கமேகலே, அனம்கமதனே, அனம்கமதனாதுரே, அனம்கரேகே, அனம்கவேகினீ, அனம்காம்குஶே, அனம்கமாலினீ, ஸர்வஸம்க்ஷோபணசக்ரஸ்வாமினீ, குப்ததரயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர சதுர்தாவரணதேவதாஃ
The flower of the love, girdle of love, Goddess of love, affected by throes of love, line of love, speed of love , goad of love and wears the garland of love The goddess of the wheel that agitates all and practices (secret or special) yoga.

सर्वसंक्षोभिणी, सर्वविद्राविनी, सर्वाकर्षिणी, सर्वह्लादिनी, सर्वसम्मोहिनी, सर्वस्तंभिनी, सर्वजृंभिणी, सर्ववशंकरी, सर्वरंजनी, सर्वोन्मादिनी, सर्वार्थसाधिके, सर्वसंपत्तिपूरिणी, सर्वमंत्रमयी, सर्वद्वंद्वक्षयंकरी, सर्वसौभाग्यदायक चक्रस्वामिनी, संप्रदाययोगिनी, श्रीचक्र पंचमावरणदेवताः
ஸர்வஸம்க்ஷோபிணீ, ஸர்வவித்ராவினீ, ஸர்வாகர்ஷிணீ, ஸர்வஹ்லாதினீ, ஸர்வஸம்மோஹினீ, ஸர்வஸ்தம்பினீ, ஸர்வஜ்றும்பிணீ, ஸர்வவஶம்கரீ, ஸர்வரம்ஜனீ, ஸர்வோன்மாதினீ, ஸர்வார்தஸாதிகே, ஸர்வஸம்பத்திபூரிணீ, ஸர்வமம்த்ரமயீ, ஸர்வத்வம்த்வக்ஷயம்கரீ, ஸர்வஸௌபாக்யதாயக சக்ரஸ்வாமினீ, ஸம்ப்ரதாயயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர பம்சமாவரணதேவதாஃ
The esoteric yogini agitating making everything liquid and attracts everything. She makes everyone happy puts everything in stupor, benumbs all, expands everything, makes everyone her own, Pleasing, makes all mad for her, grants all types of wealth, gives all types of riches, within all mantras, destroys all duality, gives all type of luck. She practices yoga in a traditional way.

सर्वसिद्धिप्रदे, सर्वसंपत्प्रदे, सर्वप्रियंकरी, सर्वमंगलकारिणी, सर्वकामप्रदे, सर्वदुःखविमोचनी, सर्वमृत्युप्रशमनि, सर्वविघ्ननिवारिणी, सर्वांगसुंदरी, सर्वसौभाग्यदायिनी, सर्वार्थसाधक चक्रस्वामिनी, कुलोत्तीर्णयोगिनी, श्रीचक्र षष्टावरणदेवताः
ஸர்வஸித்திப்ரதே, ஸர்வஸம்பத்ப்ரதே, ஸர்வப்ரியம்கரீ, ஸர்வமங்களகாரிணீ, ஸர்வகாமப்ரதே, ஸர்வதுஃகவிமோசனீ, ஸர்வம்றுத்யுப்ரஶமனி, ஸர்வவிக்னனிவாரிணீ, ஸர்வாம்கஸும்தரீ, ஸர்வஸௌபாக்யதாயினீ, ஸர்வார்தஸாதக சக்ரஸ்வாமினீ, குலோத்தீர்ணயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர ஷஷ்டாவரணதேவதாஃ
Giver of all occult powers/achievements, wealth. Dear to all. Does all auspicious acts. Fulfiller of all desires. Eliminator of all misery, premature/accidental deaths, obstacles. Pretty from head to foot (all beautiful organs). Giver of all types of luck. The wheel which turns you on to the right path, granting all objects Yoga that liberates you and your clan

सर्वज्ञे, सर्वशक्ते, सर्वैश्वर्यप्रदायिनी, सर्वज्ञानमयी, सर्वव्याधिविनाशिनी, सर्वाधारस्वरूपे, सर्वपापहरे, सर्वानंदमयी, सर्वरक्षास्वरूपिणी, सर्वेप्सितफलप्रदे, सर्वरक्षाकरचक्रस्वामिनी, निगर्भयोगिनी, श्रीचक्र सप्तमावरणदेवताः
ஸர்வஜ்ஞே, ஸர்வஶக்தே, ஸர்வைஶ்வர்யப்ரதாயினீ, ஸர்வஜ்ஞானமயீ, ஸர்வவ்யாதிவினாஶினீ, ஸர்வாதாரஸ்வரூபே, ஸர்வபாபஹரே, ஸர்வானம்தமயீ, ஸர்வரக்ஷாஸ்வரூபிணீ, ஸர்வேப்ஸிதபலப்ரதே, ஸர்வரக்ஷாகரசக்ரஸ்வாமினீ, நிகர்பயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர ஸப்தமாவரணதேவதாஃ
Omniscient, Omnipotent, Omni expressive. Giver all types of wealth, wisdom. Eliminating all diseases/maladies. Basis of everything. Eliminator of all sins. All happiness. All protecting. Provider of all requests.. The wheel of all protection, Protecting the child in the womb.

वशिनी, कामेश्वरी, मोदिनी, विमले, अरुणे, जयिनी, सर्वेश्वरी, कौलिनि, सर्वरोगहरचक्रस्वामिनी, रहस्ययोगिनी, श्रीचक्र अष्टमावरणदेवताः श्रीचक्र षष्टावरणदेवताः
வஶினீ, காமேஶ்வரீ, மோதினீ, விமலே, அருணே, ஜயினீ, ஸர்வேஶ்வரீ, கௌளினி, ஸர்வரோகஹரசக்ரஸ்வாமினீ, ரஹஸ்யயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர அஷ்டமாவரணதேவதாஃ
She who controls, wife of Kameswara(Shiva). Who is full of joy, pure, rising sun/Passion, victorious. Owner of all, Enjoying all. Destroyer of all diseases. Doing yoga in secret

बाणिनी, चापिनी, पाशिनी, अंकुशिनी, महाकामेश्वरी, महावज्रेश्वरी, महाभगमालिनी, सर्वसिद्धिप्रदचक्रस्वामिनी, अतिरहस्ययोगिनी, श्रीचक्र नवमावरणदेवताः
பாணினீ, சாபினீ, பாஶினீ, அம்குஶினீ, மஹாகாமேஶ்வரீ, மஹாவஜ்ரேஶ்வரீ, மஹாபகமாலினீ, ஸர்வஸித்திப்ரதசக்ரஸ்வாமினீ, அதிரஹஸ்யயோகினீ, ஶ்ரீசக்ர நவமாவரணதேவதாஃ
Holding an arrow, bow, rope and the goad. Consort of Shiva. Strong as a diamond. Garland of prosperity. Wheel that gives rise to all occult powers/realizations. Doing yoga in great secret

श्री श्री महाभट्टारिके, सर्वानंदमयचक्रस्वामिनी, परापररहस्ययोगिनी, नवचक्रेश्वरी नामानि
ஶ்ரீ ஶ்ரீ மஹாபட்டாரிகே, ஸர்வானம்தமயசக்ரஸ்வாமினீ, பராபரரஹஸ்யயோகினீ, னவசக்ரேஶ்வரீ நாமானி
Present in the whole cosmos or Supreme queen. The wheel of all bliss. Doing yoga in absolute secret

त्रिपुरे, त्रिपुरेशी, त्रिपुरसुंदरी, त्रिपुरवासिनी, त्रिपुराश्रीः, त्रिपुरमालिनी, त्रिपुरसिद्धे, त्रिपुरांबा, महात्रिपुरसुंदरी,
த்ரிபுரே, த்ரிபுரேஶீ, த்ரிபுரஸும்தரீ, த்ரிபுரவாஸினீ, த்ரிபுராஶ்ரீஃ, த்ரிபுரமாலினீ, த்ரிபுரஸித்தே, த்ரிபுராம்பா, மஹாத்ரிபுரஸும்தரீ, ஶ்ரீதேவீ விஶேஷணானி – நமஸ்காரனவாக்ஷரீச
Three states of Waking, Dreaming and Sleeping. Goddess of the three worlds(states). Most pretty one in the three worlds. Lives in all these three states. Riches of all these three states. The sequences of all these states experienced by all. The achievements/occult powers possible in all these three states. The mother in these three worlds. The greatest beauty of the three worlds

श्रीदेवी विशेषणानि – नमस्कारनवाक्षरीच महामहेश्वरी, महामहाराज्ञी, महामहाशक्ते, महामहागुप्ते, महामहाज्ञप्ते, महामहानंदे, महामहास्कंधे, महामहाशये, महामहा श्रीचक्रनगरसाम्राज्ञी, नमस्ते नमस्ते नमस्ते नमः ।
மஹாமஹேஶ்வரீ, மஹாமஹாராஜ்ஞீ, மஹாமஹாஶக்தே, மஹாமஹாகுப்தே, மஹாமஹாஜ்ஞப்தே, மஹாமஹானம்தே, மஹாமஹாஸ்கம்தே, மஹாமஹாஶயே, மஹாமஹா ஶ்ரீசக்ரனகரஸாம்ராஜ்ஞீ, நமஸ்தே நமஸ்தே நமஸ்தே நம:
The great cosmic controller/consort of Great Lord. The great cosmic empress, power, secret, memory, bliss, support and expression. The great ruler or empress of the wheel of Sri Chakra.We bow to You, or , salutations (thrice). O Divine Mother!


Vaishno Devi Stotra

ஓம் சௌ த்ரிபுரதேவி ச வித்மஹே சக்தீஸ்வரீ ச தீமஹி தன்னோ அம்ருத ப்ரசோதயாத்
Om chau dhriburadhevi cha vidhmahe chakdhisvari cha dhimahi dhanno amrudha brachodhayAdh
जयभगवती नारायणी जय मात सिंह वाहिनी
जय लक्ष्मी भवतारनी जय शंख चक्र धारनी
जय जय अमंगल हारनी जय सर्व मंगल कारनी
जय वैष्णवी कृपालिनी जय जग जननी प्रतिपालनी
ஜயபகவதீ நாராயணீ ஜய மாதா ஸிம்ஹ வாஹிநீ
ஜய லக்ஷ்மீ பவதாரநீ ஜய ஷங்க சக்ர தாரநீ
ஜய ஜய அமங்கல ஹாரநீ ஜய ஸர்வ மங்கல காரநீ
ஜய வைஷ்ணவீ கரபாலிநீ ஜய ஜக ஜநநீ ப்ரதிபாலநீ

Sri Vidya Kavacham

ஶ்ரீகணேஶாய நம: ।
श्रीगणेशाय नमः ।

தேவ்யுவாச ।
देव्युवाच ।

தேவதேவ மஹாதேவ பக்தாநாம் ப்ரீதிவர்தனம் ।
देवदेव महादेव भक्तानां प्रीतिवर्धनम् ।

ஸூசிதம் யன்மஹாதேவ்யா: கவசம் கதயஸ்வ மே ॥ 1॥
सूचितं यन्महादेव्याः कवचं कथयस्व मे ॥ १॥

மஹாதேவ உவாச ।
महादेव उवाच ।

ஶ்ருணு தேவி ப்ரவக்ஷ்யாமி கவசம் தேவதுர்லபம் ।
श्रुणु देवि प्रवक्ष्यामि कवचं देवदुर्लभम् ।

ந ப்ரகாஶ்யம் பரம் குஹ்யம் ஸாதகாபீஷ்டஸித்திதம் ॥ 2॥
न प्रकाश्यं परं गुह्यं साधकाभीष्टसिद्धिदम् ॥ २॥

கவசஸ்ய ரு ஷிர்தேவி தக்ஷிணாமூர்திரவ்யய: ।
कवचस्य ऋषिर्देवि दक्षिणामूर्तिरव्ययः ।

சந்த: பங்க்தி: ஸமுத்திஷ்டம் தேவீ த்ரிபுரஸுந்தரீ ॥ 3॥
छन्दः पङ्क्तिः समुद्दिष्टं देवी त्रिपुरसुन्दरी ॥ ३॥

தர்மார்தகாமமோக்ஷாணாம் வினியோகஸ்து ஸாதனே ।
धर्मार्थकाममोक्षाणां विनियोगस्तु साधने ।

வாக்பவ: காமராஜஶ்ச ஶக்திர்பீஜம் ஸுரேஶ்வரி ॥ 4॥
वाग्भवः कामराजश्च शक्तिर्बीजं सुरेश्वरि ॥ ४॥

ஐம் வாக்பவ: பாது ஶீர்ஷே மாம் க்லீம் காமராஜஸ்ததா ஹ்ரு தி ।
ऐं वाग्भवः पातु शीर्षे मां क्लीं कामराजस्तथा हृदि ।

ஸௌ: ஶக்திபீஜம் ஸதா பாது நாபௌ குஹ்யே ச பாதயோ: ॥ 5॥
सौः शक्तिबीजं सदा पातु नाभौ गुह्ये च पादयोः ॥ ५॥

ஐம் ஶ்ரீம் ஸௌ: வதனே பாது பாலா மாம் ஸர்வஸித்தயே ।
ऐं श्रीं सौः वदने पातु बाला मां सर्वसिद्धये ।

ஹ்ஸௌம் ஹஸகலஹ்ரீம் ஹ்ஸௌ: பாது பைரவீ கண்டதேஶத: ॥ 6॥
ह्सौं हसकलह्रीं ह्सौः पातु भैरवी कण्ठदेशतः ॥ ६॥

ஸுந்தரீ நாபிதேஶே ச ஶீர்ஷே காமகலா ஸதா ।
सुन्दरी नाभिदेशे च शीर्षे कामकला सदा ।

ப்ரூனாஸயோரந்தராலே மஹாத்ரிபுரஸுந்தரீ ॥ 7॥
भ्रूनासयोरन्तराले महात्रिपुरसुन्दरी ॥ ७॥

லலாடே ஸுபகா பாது பகா மாம் கண்டதேஶத: ।
ललाटे सुभगा पातु भगा मां कण्ठदेशतः ।

பகோதயா ச ஹ்ரு தயே உதரே பகஸர்பிணீ ॥ 8॥
भगोदया च हृदये उदरे भगसर्पिणी ॥ ८॥

பகமாலா நாபிதேஶே லிங்கே பாது மனோபவா ।
भगमाला नाभिदेशे लिङ्गे पातु मनोभवा ।

குஹ்யே பாது மஹாதேவீ ராஜராஜேஶ்வரீ ஶிவா ॥ 9॥
गुह्ये पातु महादेवी राजराजेश्वरी शिवा ॥ ९॥

சைதன்யரூபிணீ பாது பாதயோர்ஜகதம்பிகா ।
चैतन्यरूपिणी पातु पादयोर्जगदम्बिका ।

நாராயணீ ஸர்வகாத்ரே ஸர்வகார்யே ஶுபங்கரீ ॥ 10॥
नारायणी सर्वगात्रे सर्वकार्ये शुभङ्करी ॥ १०॥

ப்ரஹ்மாணீ பாது மாம் பூர்வே தக்ஷிணே வைஷ்ணவீ ததா ।
ब्रह्माणी पातु मां पूर्वे दक्षिणे वैष्णवी तथा ।

பஶ்சிமே பாது வாராஹீ உத்தரே து மஹேஶ்வரீ ॥ 11॥
पश्चिमे पातु वाराही उत्तरे तु महेश्वरी ॥ ११॥

ஆக்னேயாம் பாது கௌமாரீ மஹாலக்ஷ்மீஸ்து நைர்ரு தே ।
आग्नेयां पातु कौमारी महालक्ष्मीस्तु नैरृते ।

வாயவ்யாம் பாது சாமுண்டா இந்த்ராணீ பாது ஈஶகே ॥ 12॥
वायव्यां पातु चामुण्डा इन्द्राणी पातु ईशके ॥ १२॥

ஜலே பாது மஹாமாயா ப்ரு திவ்யாம் ஸர்வமங்கலா ।
जले पातु महामाया पृथिव्यां सर्वमङ्गला ।

ஆகாஶே பாது வரதா ஸர்வத்ர புவனேஶ்வரீ ॥ 13॥
आकाशे पातु वरदा सर्वत्र भुवनेश्वरी ॥ १३॥

இதம் து கவசம் தேவ்யா தேவாநாமபி துர்லபம் ।
इदं तु कवचं देव्या देवानामपि दुर्लभम् ।

படேத்ப்ராத: ஸமுத்தாய ஶுசி: ப்ரயதமானஸ: ॥ 14॥
पठेत्प्रातः समुत्थाय शुचिः प्रयतमानसः ॥ १४॥

நாதயோ வ்யாதயஸ்தஸ்ய ந பயம் ச க்வசித்பவேத் ।
नाधयो व्याधयस्तस्य न भयं च क्वचिद्भवेत् ।

ந ச மாரீ பயம் தஸ்ய பாதகாநாம் பயம் ததா ॥ 15॥
न च मारी भयं तस्य पातकानां भयं तथा ॥ १५॥

ந தாரித்ர்யவஶம் கச்சேத்திஷ்டேன்ம்ரு த்யுவஶே ந ச ।
न दारिद्र्यवशं गच्छेत्तिष्ठेन्मृत्युवशे न च ।

கச்சேச்சிவபுரம் தேவி ஸத்யம் ஸத்யம் வதாம்யஹம் ॥ 16॥
गच्छेच्छिवपुरं देवि सत्यं सत्यं वदाम्यहम् ॥ १६॥

இதம் கவசமஜ்ஞாத்வா ஶ்ரீவித்யாம் யோ ஜபேத்ஸதா ।
इदं कवचमज्ञात्वा श्रीविद्यां यो जपेत्सदा ।

ஸ நாப்னோதி பலம் தஸ்ய ப்ராப்னுயாச்சஸ்த்ரகாதனம் ॥ 17॥
स नाप्नोति फलं तस्य प्राप्नुयाच्छस्त्रघातनम् ॥ १७॥

॥ இதி ஶ்ரீஸித்தயாமலே ஶ்ரீவித்யாகவசம் ஸம்பூர்ணம் ॥
॥ इति श्रीसिद्धयामले श्रीविद्याकवचं सम्पूर्णम् ॥


The Sri Yantra also called Sri Chakra is a beautiful and complex sacred geometry used for worship, devotion and meditation. The diagram called navayoni Chakra, because it is formed by nine triangles that surround and radiate out from the central (bindu) point. Four isosceles triangles with the apices upwards, represent Shiva or the Masculine. Five isosceles triangles with the apices downward, symbolize female embodiment Shakti. Nine triangles are interlaced in such a way as to form 43 smaller triangles.
The central triangle is the central lens of the Sri Yantra. All 9 triangles, should be in perfectly balanced configuration. Another measure of overall balance of a structure is the center of mass. Bindu is the point in the geometry where it would balance if it was a solid object.
The Shri Chakra is also known as the nav chakra or because it can also be seen as having nine levels, each level corresponds to a mudra, a yogini, and a specific form of the deity They are: Trailokya Mohan or Bhupar, an earth square; Sarva Aasa Paripurak, a sixteen-petal lotus; Sarva Sankshobahan, an eight-petal lotus; Sarva Saubhagyadayak, composed of fourteen small triangles; Sarva Arthasadhak, composed of ten small triangles; Sarva Rakshakar, composed of ten small triangles; Sarva Rogahar, composed of eight small triangles; Sarva Siddhiprada, composed of 1 small triangle; Sarva Anandamay, composed of a point or bindu.
There a many variations of the Sri Yantra There are many different methods to draw it Nobody seems to know what the original configuration is There are three main forms of the Sri Yantra: Plane, pyramidal, spherical